ज्ञान वाटिका

GYAAN VATIKA

ज्ञान की प्रयोगशाला

9 फील्ड रोबोट जो बदलेंगे भारतीय कृषि की तस्वीर

आज टेक्नोलॉजी जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।  कृषि का क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं है। अब रोबोट कृषि कार्यों में किसानों का हाथ बता रहे हैं।  इन रोबोटों की कृषि कार्यों में विशेषता के कारण एग्रोबोट कहा जाता है।  ये कृषि के क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन के साक्षी बन रहे हैं।  कृषि कार्यों में अलग अलग कार्यों  के लिए के लिए अलग अलग डिज़ाइन के रोबोट प्रयोग में लाये जाते हैं।  इस ब्लॉग में हम जानेगे  की क्या है एग्रोबोट की टेक्नोलॉजी ? और कौन  से वो 9 फील्ड रोबोट हैं  जिनको  कृषि मित्र कहा जा रहा है।  

 

9 फील्ड रोबोट जो बदलेंगे भारतीय कृषि की तस्वीर
कृषि क्षेत्र में फील्ड रोबोट के प्रकार

 

कृषि रोबोट क्यों हैं किसानों के मित्र 

 

  • कृषि रोबोट एक ऐसी मशीन है जो बिना रुके और थके  कई घंटों तक कृषि  कार्यों  जैसे  पौधों को पानी देना, बीज बोना  तथा  फसल की कटाई जैसे कार्यों को कुशलता और दक्षता के साथ पूरा कर सकता है।  

 

  •  इन रोबोटों को इस प्रकार डिज़ाइन किया गया है कि  ये वो सभी कार्य कर सकते हैं जिन्हें किसान अपने हाथो से करता था। 

 

  •  ये रोबोट अपने कार्यों को तीव्रता और सटीकता के साथ  पूर्ण कर किसानों की मेहनत को कम  कर रहे  हैं।  

 

  •  रोबोट्स खेतों में खरपतवारों की पहचान और उनका समय पर इलाज करने में किसानों की मदद  करते हैं । ये रोबोट खेतों में खरपतवारों को खुद ढूंढकर निकाल सकते हैं और उन्हें नष्ट कर सकते हैं।  ये रोबोट जैविक खेती में मददगार बन रहे हैं।  

 

  • रोबोट्स की मदद से किसान बेहतर तरीके से जल संसाधन का प्रबंधन कर सकते हैं। वे खेतों में स्थापित सेंसर्स के माध्यम से पौधों की जल की आवश्यकता की निगरानी कर सकते हैं।  

 

  • रोबोटिक्स की दुनिया में कई प्रकार के प्रशिक्षण और शिक्षा के स्रोत होते हैं। किसान रोबोटिक्स के माध्यम से नवाचारी तरीकों को सीख सकते हैं जिनसे उनकी उपज में वृद्धि हो सकती है। 

 

                                9 फील्ड  कृषि रोबोट के प्रकार 

 

आज कृषि क्षेत्र के विकास के लिए नयी नयी टेक्नोलॉजी को प्रयोग में लाया जा रहा है । इन टेक्नोलॉजी की सहायता से किसान कम समय में अधिक उत्पादन में सक्षम हो पा रहे हैं । कृषि क्षेत्र में प्रयोग में लायी जाने वाली नयी कृषि टेक्नोलॉजी का ही एक भाग रोबोटिक्स है । आइए हम आगे जानते हैं की ऐसे कौन कौन से रोबोट्स हैं जिसका उपयोग कृषि कार्यों में किया जा रहा है ।

 

1-पौधा रोपण करने वाले रोबोट  (Planting  Robot) 

 

प्लांटिंग रोबोट को बीज बोन की प्रक्रिया को स्वचालित बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है।   ये रोबोट जीपीएस और सेंसर से युक्त होते हैं। बीज बोन के दौरान अपने सटीक तकनीक का प्रयोग करते हुए ये रोबोट ये निश्चित करते हैं की एक बीज के लिए आवश्य निश्चित गरहाई और दूरी कितनी होनी चाहिए।  ये रोबोट विभिन्न प्रकार की जलवायु परिस्थितियों एवं मिटटी के प्रकारों में अपने कार्य दक्षता पूर्वक कर सकते हैं।  

 

2-निराई करने वाले रोबोट (Weeding Robot) 

   वीडिंग  रोबोट खेतों से खर पतवार की पहचान करने एवं उन्हें खेतों से हटाने के लिए डिज़ाइन किये गए हैं।  ये रोबोट कमरे और कंप्यूटर विज़न टेक्नोलॉजी का प्रयोग करके फसलों और खरपतवारों के बीच आसानी से अंतर कर लेते हैं। ये एक समय में अलग अलग प्रकार के खरपतवार  को लक्षित कर सकते हैं।  ये रोबोट खेत में खरपतवारों  को यांत्रिक रूप से या फिर खरपतवार नाशी का का प्रयोग करके खेतों की सफाई करते हैं।   ये रोबोट खरपतवार नाशी की आवश्यकता को कम  करके जैवक कृषि को बढ़ावा देते हैं।  

 

3-कटाई करने वाले रोबोट (Harvesting Robot) 

 

 हार्वेस्टिंग रोबोट खेत में लगी फसलों को काटने तथा पके फलों और सब्जियों को चुनने के लिए डिज़ाइन किये जाते हैं ।  इन रोबोट के भीतर सेंसर एवं इमेजिंग तकनीकी होती है जिसके आधार पर रोबोट इस बात की पहचान कर लेते हैं की कौन सा फल या सब्जी कटाई के लिए कब तैयार है।  हार्वेस्टंग करने वाले रोबोट में कोमल यन्त्र होते हैं जो फल या सब्जी को बिना नुक्सान  पहुंचाए सरलता से तोड़ लेते हैं।  फसलों की कटाई के चरम समय में अक्सर श्रमिकों की कमी हो जाती है,  ऐसे समय में ये रोबोट किसानों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं।     

4-निगरानी रोबोट (Monitoring Robot) 

 

  मॉनिटरिंग रोबोट किसानों के लिए बहुत उपयोगी है।  इस रोबोट को खेतों में घूमने, मिटटी की स्थिति, कीट संक्रमण, बीमारियों एवं मौसम के पैटर्न से सम्बंधित डाटा को एकत्र करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।   विभिन्न सेंसर, कैमरे  या फिर कभी कभी ड्रोन की सहायता से किसानों को खेत की वास्तविक स्थिति के विषय में महत्त्वपूर्ण जानकारी देते हैं। इन रोबोट द्वारा दिए गए आउटपुट के आधार पर किसान सिंचाई , कीट नियंत्रण एवं अन्य आवश्यक कार्यों के प्रति सही समय पर सही निर्णय लेने में सक्षम होता है।   

 

5-छिड़काव करने वाले रोबोट (Spray Robot) 

 

स्प्रे  रोबोट का उपयोग खेतों में उर्वरकों, कीटनाशकों और शाकनाशियों की सही मात्रा में प्रयोग के लिए किया जाता  है। ये रोबोट सेंसर एवं जीपीएस की मदद से खेत में उन स्थानों को पहचानने में सक्षम होते हैं जहाँ कीट संक्रमण होता है या उर्वरक की आवश्यकता होती है। ये रोबोट पूरे खेत में छिड़काव के स्थान पर केवल उन्हीं स्थानों पर कीटनाशक या उर्वरक का छिड़काव करते हैं जहाँ पर पौधे प्रभावित होते हैं। ये रोबोट पूरे खेत में छिड़काव स्थान पर  केवल प्रभावित  क्षेत्रों को लक्षित करके पर्यावरणीय प्रभाव को कम करते हैं।  ये खेतों में रसायनों के उपयोग को कम  करके किसानों को आर्थिक लाभ भी पँहुचाते हैं।   

 

6-छंटाई करने वाला रोबोट (Pruning Robots)

 

   कृषि कार्यों में पेड़ पौधों  के  स्वस्थ विकास और फल उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए  समय समय पर छंटाई एक महत्व पूर्ण कार्य होता है।  प्रूनिंग रोबोट पौधों में उन अनावश्यक  शाखाओं की पहचान करने के लिए कैमरों और एल्गोरिदम का उपयोग करते हैं जिन्हें काटने की आवश्यकता होती है। ये रोबोट पौधों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए तथा अधिकतम फसल उत्पादन के लिए सिर्फ पौधों के अनावश्यक भागों की छंटाई करते हैं।   

 

7-सॉर्टिंग और पैकिंग रोबोट (Sorting and Packing Robots)

 

 ये रोबोट उस कार्य को करते हैं जिसमे अधिक श्रमिकों की आवश्यकता होती है।  ये फसलों की कटाई के बाद उसके रंग, आकार और गुणवत्ता के आधार पर छंटाई कर सकते हैं।  ये रोबोट परिवहन के लिए फलों और सब्जियों को कंटेनर में पैक कर सकते है। ये रोबोट पैकिंग जैसे कार्यों में श्रमिक की आवश्यकताओं को कम करते हैं।     

 

8-मिट्टी का नमूना लेने वाले रोबोट (Soil Sampling Robots)

 

ये रोबोट मिट्टी का विश्लेषण करने वाले रोबोट होते हैं।  ये खेत के विभिन्न भागों से मिट्टी के नमूने को एकत्र करके इसमें पोषक तत्वों व् अन्य कारकों का विश्लेषण करते हैं। इस रोबोट द्वारा दिए गए डाटा के आधार पर किसान अपने खेत को बेहतर तरीके से प्रबंधित कर सकता है।  

9-स्वायत्त ट्रैक्टर (Autonomous Tractors)

 

  ये ट्रेक्टर बिना ड्राइवर के चलते हैं।  ये उन्नत नेविगेशन प्रणाली से युक्त होते हैं जिसके कारण ये बिना मानवीय हस्तक्षेप के वे सभी काम कर सकते हैं जैसा का एक मानव चालित ट्रेक्टर करता है।  ऑटोनोमस ट्रैक्टर  खेत में जुताई कर सकते हैं, जुताई कर सकते हैं और मिट्टी तैयार कर सकते हैं, साथ ही रोपण और खेती जैसे अन्य कार्य भी कर सकते हैं।

 

निष्कर्ष 

 

इस प्रकार हमने इस ब्लॉग के अंतर्गत 9 प्रकार के फील्ड रोबोट के विषय में जानकारी प्राप्त की| जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी का विकास हो रहा है  कृषि रोबोट अधिक परिष्कृत होते जा रहे हैं।  जटिल से जटिल कृषि कार्यों को करने में ये अधिक सक्षम बन रहे हैं।  ये रोबोट कृषि दक्षता में सुधार, श्रम में कमी और टिकाऊ कृषि पद्धति को बढ़ावा देकर कृषि क्षेत्र में बड़े बदलाव की क्षमता रखते हैं।   

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top