ज्ञान वाटिका

GYAAN VATIKA

ज्ञान की प्रयोगशाला

इलेक्ट्रिक कार को हमेशा नया बनाएं रखें 11 आसान मेंटेनेंस टिप्स के साथ

आज का दौर इलेक्ट्रिक कारों का है।  इलेक्ट्रिक कार धीरे धीरे कार लवर्स के घरों की महत्वपूर्ण सदस्य बनती जा रही है। जिस प्रकार घर के अन्य सदस्यों को अच्छे स्वास्थ्य  के लिए उचित देखभाल की आवश्यकता होती है, उसी प्रकार इलेक्ट्रिक कार भी  मेंटेनेंस के कारण बेहतर परफॉरमेंस देती हैं। अगर आपको अपनी  कार के देखभाल का तरीका नहीं पता है तो घबराने की कोई बात नहीं हैं।  ये ब्लॉग  ऐसे 11 मेंटेनेंस टिप्स बताएगा जो  आपकी कार के हेल्थ कार्ड को दुरुस्त करने में पूरी सहायता करेगा। आपको बस आगे दिए जा रहे टिप्स  का पालन करना है।  

 

इलेक्ट्रिक कार को हमेशा नया बनाएं रखें 11 आसान मेंटेनेंस टिप्स के साथ
electric car maintenance

बैटरी को हमेशा चार्ज रखें:

बैटरी इलेक्ट्रिक कार का ह्रदय होती है इसलिए इसे चार्ज रखना बैटरी के बेहतर परफॉरमेंस के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण  है। औसतन इलेक्ट्रिक कार एक बार चार्ज करने के पश्चात 100 से 300 मील की दूरी तय  करती हैं।  बैटरी की क्षमता के अनुरूप अपनी यात्रा की योजना बनानी चाहिए।  बैटरी को चार्ज रखने के लिए होम चार्जर अथवा सार्वजनिक चार्जिंग स्टेशन का प्रयोग किया जा सकता है। कार के कुछ मॉडल  में रीजेनरेटिव ब्रेकिंग सिस्टम पाया जाता है जिसे कारण कार में ब्रेक लगाने पर बैटरी रिचार्ज हो जाती है।

टायर में हवा की मात्रा सही रखें: 

टायर के प्रेशर को चेक करना किसी भी कार के लिए आवश्यक होता है  परन्तु एक इलेक्ट्रिक कार के लिए ये और भी महत्वपूर्ण हो जाता है। निर्धारित मानक के अनुरूप टायर में भरी हवा इलेक्ट्रिक कार की दक्षता  और क्षमता बढ़ाने में सहायक होते हैं। मानक से काम हवा वाले टायर कार के परिचालन में अधिक ऊर्जा का व्यय करते हैं। वहीँ मानक से अधिक हवा भरे टायर  कार के लिए ज्यादा खतरनाक होते हैं क्यूंकि ये सड़क पर वाहन  की पकड़ को कम  कर देते हैं। समय समय पर टायर में हवा के प्रेशर को चेक कराते रहना चाहिए जो आपकी कार के मेन्टेन्स के लिए महत्त्वपूर्ण होता है ।   

ब्रेक को चेक करना: 

 इलेक्ट्रिक कार में रिजेनेरेटिव  ब्रेकिंग सिस्टम का प्रयोग किया जाता है।  जब कार में ब्रेक का प्रयोग किया जाता है तब यह सिस्टम गतिज ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित कर देता है जो बैटरी में जाकर संग्रहित  हो जाती है। ये प्रणाली ब्रेक में होने वाले डैमेज को कम करती है। फिर भी ब्रेक सिस्टम की समय समय पर जांच कराते रहना चाहिए।  यदि कार चलाते समय ब्रेक में कोई अवाज़ आ रही हो या फिर किसी तरह का कोई कंपन महसूस हो रहा हो तो फिर कार के  मेंटेनेंस की आवश्यकता है।  कार को मैकेनिक को दिखाने का यही सही समय होता है।  

केबिन एयर फ़िल्टर को बदलना: 

अन्य कारों की तरह इलेक्ट्रिक कार में भी केबिन एयर फ़िल्टर होता है जिसे समय समय पर बदलवाते रहना चाहिए।  केबिन एयर फ़िल्टर कार के अंदर की हवा को मिटटी, धूल  या किसी अन्य प्रदूषक तत्वों से मुक्त रखकर  अंदर के वातावरण को  स्वच्छ रखता है। एक गन्दा केबिन एयर फ़िल्टर कार के वातानुकूलन क्षमता को प्रभावित करने के साथ ही  कार के अंदर सांस लेना भी कठिन बना सकता है।  कार मालिक को केबिन एयर फ़िल्टर की मैन्युअल जांच करते रहना चाहिए।  

कार के पेंट की सुरक्षा: 

अपने कार के पेंट की सुरक्षा को अनदेखा मत करें। यदि कार वर्षों तक नए कार के जैसे चमचमाते हुए रखना है तो फिर विशेष प्रयास करने होंगे।  कार को नियमित रूप से वाशिंग और वैक्सिंग कराने से यह स्क्रैच को कम  करता है तथा अल्ट्रावायलेट किरणों से होने वाले कलर फेड को कम करता है।  पेंट प्रोटेक्शन फिल्म का प्रयोग करके कार के पेंट को चट्टानों, कीड़ों या अन्य प्रकार के मलबों से सुरक्षित रखा जा सकता है।

  मौसम को ध्यान में रखें: 

तापमान में उतार चढ़ाव कार की परिचालन क्षमता को प्रभावित करते हैं।  अधिक तापमान होने पर बैटरी की क्षमता में कमी आती है।  वहीँ काम तापमान होने पर कार की प्रणाली गर्म होने में अधिक समय ले सकती है।  गर्मियों के मौसम में कार को गैराज या किसी अन्य छायादार स्थान पर पार्क करना चाहिए वहीँ सर्दियों के समय बैटरी वार्मर का प्रयोग करना चाहिए। 

स्टीयरिंग और सस्पेंशन की जांच करना: 

इलेक्ट्रिक कारों में भी पारम्परिक कार की तरह ही स्टीयरिंग और सस्पेंशन होता है। एक निश्चित अंतराल पर इनकी जांच कराना आवश्यक होता है। सस्पेंशन सड़क द्वारा लगने वाले धक्कों और झटकों को कम करता है। स्टीयरिंग कार को नियंत्रित करने में मदद करती है।  कार में लगने वाले झटकों के अनुसार सस्पेंशन की जांच कराएं। पावर स्टीयरिंग फ्लूइड की समय समय पर जांच करें तथा फ्लूइड के निर्धारित स्तर  को बनाये रखें।  

कूलिंग सिस्टम को साफ़ रखें: 

इलेक्ट्रिक कार का अपना एक कूलिंग सिस्टम होता है जो  बैटरी तथा अन्य घटकों को ठंडा रखने में मदद करता है।  इस बात को सुनिश्चित करें की आपका कूलिंग सिस्टम साफ़ और गन्दगी से मुक्त हो जैसे पत्तियां धूल  आदि।  ऐसा करने पर कूलिंग सिस्टम बैटरी और अन्य घटकों को प्रभावी ढंग से  ठंडा रखने में मदद करेगा। 

इलेक्ट्रिक सिस्टम का निरीक्षण  करना: 

इलेक्ट्रिक कार में एक जटिल इलेक्ट्रिक सिस्टम होता है जो मोटर  से लेकर एयर कंडीशनिंग सिस्टम तक को पावर सप्लाई करता है।  कार मेंटेनेंस के लिए  यह  सुनिश्चित करें की सभी विद्युत कनेक्शन सुरक्षित और जंग से मुक्त हों।  इसके अलावा फ्यूज सहित अन्य घटकों की भी जांच करें ताकि किसी क्षति से कार को सुरक्षित रखा जा सके।   

ब्रेक फ्लूइड की जांच करें: 

यूँ तो इलेक्ट्रिक कार में रिजेनेरेटिव  ब्रेकिंग सिस्टम का प्रयोग किया जाता है लेकिन इनमें हाइड्रोलिक ब्रेकिंग सिस्टम का भी प्रयोग किया जाता है जिसके लिए ब्रेक फ्लूइड का प्रयोग किया जाता है।  समय समय पर ब्रेक फ्लूइड की जांच करते रहना चाहिए तथा आवश्यक लेवल को बनाये रखना चाहिए।   साथ ही, टूट-फूट और क्षति के संकेतों के लिए ब्रेक लाइनों और होसेस की जांच करें

सॉफ्टवेयर को अपडेट रखें: 

दूसरी आधुनिक कारों की भांति इलेक्ट्रिक कार में भी सॉफ्टवेयर होता है जो बैटरी एवं मोटर जैसे विभिन्न कार्यों को नियंत्रित करता है। यह सुनिश्चित करें की आपकी कार सॉफ्टवेयर के अपडेट संस्करण द्वारा संचालित हो रही  हो।  यह आपकी कार के परफॉरमेंस को बेहतर बनाएगा साथ ही पुराने सॉफ्टवेयर से आ रही बग जैसी इत्यादि समस्या को दूर करेगा।   

 

कार आपकी है और सफर भी आपका है। एक व्यक्ति को हमेशा सुकून भरे सफर की जरूरत होती है।  ऐसे में अगर सफर के दौरान कार के परिचालन में कोई समस्या आती है तो फिर सफर का मज़ा किरकिरा हो जाता है।  ऊपर दी गयी कार मैंटेनस के 11  टिप्स का अगर आप पालन करते हैं तो सफर भी आरामदायक होगा और आपके इलेक्ट्रिक कार लाइफ में भी बढ़ोत्तरी होगी।  

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top